5 सालों में सुल्तानपुर का नवोदय विद्यालय भी नहीं शुरू करा सकी भाजपा सरकार….

सुल्तानपुर से कांग्रेस के लोकसभा प्रत्याशी और राज्यसभा सांसद डॉ संजय सिंह ने भाजपा सांसद और भाजपा सरकार पर तीखा हमला बोलते हुए पाकड़पुर में कहा कि कांग्रेस शासनकाल में सुल्तानपुर में नवोदय विद्यालय स्वीकृत हुआ, पाकड़पुर में भूमि भी आवंटित की गई, किन्तु पांच साल बीत गए न तो भाजपा सांसद और न ही भाजपा सरकार ने इसकी सुध ली। शिक्षा को लेकर इतनी उदासीनता यही इस सरकार का असली चेहरा है। यह विज्ञापन सरकार है और धरातल पर शून्य है।

डॉ0 सिंह ने कहा कि संसद में मैंने नवोदय विद्यालय की स्थापना का मामला कई बार उठाया किन्तु इस सरकार ने कुछ भी नहीं किया। उन्होंने के मतदाताओं को संबोधित करते हुए किया है कि वह इस बार सुल्तानपुर को शिक्षित, सुरक्षित और स्मार्ट सिटी बनाने के लिए वोट दें. उन्होंने कहा कि भाजपा ने स्मार्ट सिटी का जुमला उछाला था पर हम सुल्तानपुर को असली स्मार्ट सिटी बना कर दिखा देंगे क्योंकि यह जुमलों वाली पार्टी नहीं, कांग्रेस है और हम जुमले उछाल कर जनता को गुमराह नहीं करते बल्कि जो कहते हैं, वह करते हैं।

सुल्तानपुर के कादीपुर विकासखंड ग्राम कादीपुर खुर्द, ग्राम पाकड़पुर, ग्राम नरोत्तमपुर, ग्राम मंगरावा, ग्राम गौरा बीबीपुर, ग्राम मिठनेपुर ग्राम लक्ष्मणपुर में नुक्कड़ सभा को संबोधित करते हुए डॉक्टर सिंह ने कहा की यदि सुल्तानपुर की जनता ने उन्हें अपना प्रतिनिधि चुन कर संसद में भेजा तो उनके पास सुल्तानपुर के विकास की एक खास योजना है, हम सुल्तानपुर में सेना अर्धसैनिक एवं खेलों के लिए प्रशिक्षण केंद्र की स्थापना करके युवाओं को सशक्त बनाएंगे, जिससे उनकी सेना और अर्ध सैनिक बलों में भर्ती आसान हो सके और सुल्तानपुर के युवा खेलकूद में विशेषज्ञता हासिल करके खेलकूद की दुनिया में सुल्तानपुर का नाम रोशन कर सकें. उन्होंने कहा कि गोमती के प्रवाह को सुनिश्चित करने के लिए और गोमती के घाटों पर पर्यटन सुरक्षित करने के लिए हम गोमती पुनर्वास और पर्यटक आकर्षण केंद्र बनाने को प्राथमिकता देंगे।

किसानों के लिए आवारा पशु बने सरदर्द

डॉ सिंह ने कहा की आवारा पशु किसानों के लिए बहुत बड़ा सरदर्द बन चुके हैं और वर्तमान सरकार न तो आवारा पशुओं के प्रबंधन के लिए कोई योजना ना बना सकी है और न ही चला रही है. उन्होंने कहा कि कांग्रेस सरकार आने पर हम आवारा पशुओं के प्रबंधन के लिए एक विशेष तंत्र की स्थापना करेंगे और हर विकासखंड में एक गौशाला भी स्थापित करेंगे और हम सुलतानपुर में कृषि उत्कृष्टता केंद्र भी स्थापित करेंगे, जिससे किसानों को खेती की नई तकनीक की जानकारी मिल सके, वह अपना अपनी उपज बढ़ा सकें और फसल का बेहतर तरीके से प्रबंधन भी कर सकें।

बेरोजगारी देश की पहली समस्या

डॉ सिंह ने कहा कि बेरोजगारी सारे देश में बड़ी समस्या है और सुल्तानपुर भी इससे अछूता नहीं है. सुल्तानपुर में रोजगार उपलब्ध कराने के लिए कांग्रेस सांसद के रूप में मैं स्थानीय उद्योगों को एकीकृत करवाऊंगा और एक इंडस्ट्रियल हब की स्थापना भी करवाउंगा, जिससे सुल्तानपुर में नए-नए रोजगार लग सकें और यहां के स्थानीय युवाओं को रोजगार के अवसर भी मिल सकें. डॉक्टर सिंह ने सुल्तानपुर के गठबंधन प्रत्याशी पर हमला करते हुए कहा कि जो पार्टी एक प्रदेश में आधे से भी कम सीटों पर चुनाव लड़ रही है, उसके प्रत्याशी की केंद्र सरकार में क्या भूमिका होगी और वह केंद्र में कैसे सरकार बनाएगा, यह सवाल भी उससे जरूर पूछा जाना चाहिए. उन्होंने कहा कि चुनाव में अपना मत देते समय आप उस पार्टी के प्रत्याशी को वोट मत दे बैठिएगा, जिस पार्टी का भाजपा के साथ जाने का पुराना इतिहास रहा हो. उन्होंने कहा की जो टिकट खरीद कर आए हैं वह भी बिक जाए और आपका भरोसा तोड़ दें, ऐसा बिलकुल भी मत होने दीजिएगा. डॉ सिंह ने कहा कि देश में कांग्रेस और भाजपा ही राष्ट्रीय पार्टियां हैं और आप अपना वोट उसे दें, जो पूरे देश में भाजपा और उसके झूठ, जुमलों और जनविरोधी नीतियों के खिलाफ खुली लड़ाई लड़ रहा हो. उन्होंने कहा कि एक सांसद के रूप में आप अपना प्रतिनिधि उसे चुनिए जिसके सामने आप बिना किसी भय, बिना किसी दबाव के अपना दर्द बांट सकें, अपनी समस्या सुना सकें, अपना दुख कह सकें. डॉ सिंह ने भाजपा प्रत्याशी को बाहरी टूरिस्ट बताया और जनता से अनुरोध किया कि वह किसी ऐसे पर्यटक को अपना सांसद चुनने की ग़लती न करे, जिसका चुनाव के बाद अता-पता ही न चल सके. डॉ0 सिंह ने कहा कि मैं स्थानीय हूँ ।

सुलतानपुर मेरी जन्मभूमि व कर्मभूमि

सुल्तानपुर मेरी जन्मभूमि और कर्मभूमि दोनों है. मैं यहीं पैदा हुआ हूँ और अपनी पूरी जिंदगी सुल्तानपुर के लोगों की सेवा करता रहूंगा. डॉ संजय सिंह के कार्यक्रमों में राज मणि वर्मा, जितेंद्र सिंह, जगदीश सिंह, अंगद चौधरी, सुभाष पांडेय, विजय पांडेय शादाब खान, संत भारती मुख्य रूप से उपस्थित थे.
जनसमर्थन जुटाने के लिए डॉ संजय सिंह कांग्रेस समर्थकों द्वारा कादीपुर टाउन में आयोजित कांग्रेस कार्यालय से पटेल चौराहा, पुरानी बाजार होते हुए एक पदयात्रा में भी सम्मिलित हुए और उन्होंने जन समर्थन जुटाया,उधर कांग्रेस प्रत्याशी डॉ संजय सिंह के समर्थन में उत्तर प्रदेश सरकार की पूर्व मंत्री डॉ अमीता सिंह ने विकासखंड दुबेपुर के ग्राम हरदासपुर, ग्राम पीतांबरकला, ग्राम लौहर पश्चिम, ग्राम सरैया बनकेपुर, ग्राम महानपुर में नुक्कड़ सभाओं को संबोधित किया. अपने संबोधन में डॉ अमीता सिंह ने कहा कि यह चुनाव जितनी देश की परीक्षा है, उससे कहीं ज्यादा सुल्तानपुर की जनता के विवेक की परीक्षा है और मुझे भरोसा है कि सुल्तानपुर की जनता अपने मताधिकार का प्रयोग सुल्तानपुर के विकास के लिए ही करेगी और सुल्तानपुर से कांग्रेस प्रत्याशी को विजयी बनाएगी. डॉ अमीता सिंह के कार्यक्रमों में तेरस राम पाल, बृजेश पाल बीडीसी, राजेश तिवारी, अनीश भूलकी, जमीदार यादव, ह्रदय राम चौहान, सोहेल अहमद, अनवर,संजय, भुन्नी मुख्य रूप से उपस्थित थे।

बेटे के नाम पर वोट माग रही है मेनका:- संजय सिंह

कांग्रेस से सुल्तानपुर के लोकसभा प्रत्याशी और राज्यसभा सांसद डॉ संजय सिंह ने सुल्तानपुर की जनता का आह्वान किया कि वह दिल्ली में केंद्र की सरकार बनाने में और देश का प्रधानमंत्री चुनने में अपनी भागीदारी निभाएं और सुल्तानपुर से कांग्रेस प्रत्याशी के रूप में उन्हें जिता कर दिल्ली भेजें।

संजय सिंह ने कहा कि आपके सामने जो विकल्प है, उनमें एक ओर भय और अराजकता है और दूसरी ओर प्रत्याशी के रूप में एक टूरिस्ट और मुझे नहीं लगता कि सुल्तानपुर की जनता अपने प्रतिनिधि के रूप में किसी ऐसे व्यक्ति को चुनेगी जिससे अपनी बात कहते या अपनी समस्याएं बाँटते समय भी उसे किसी तरह के अपरिचय, भय, दबाव या असुरक्षा का एहसास हो।

विकासखंड लम्भुआ के ग्राम भतेड़ा, ग्राम हडिया, ग्राम गारापुर और ग्राम तातोमुरैनी में नुक्कड़ सभाओं को संबोधित करते हुए डॉ सिंह ने कहा कि देश में सुनियोजित तरीके से संवैधानिक संस्थाओं को नष्ट किया जा रहा है और देश एक गंभीर संकट के दौर से गुजर रहा है।उन्होंने उपस्थित जनमानस से कहा कि आप अपनी जिम्मेदारी समझिये और संविधान और देश को बचाने के लिए आगे आइए।

भाजपा प्रत्यासी पर बोला हमला

भाजपा प्रत्याशी मेनका गाँधी पर हमला करते हुए कहा कि मेनका जी केंद्र सरकार में मंत्री रहीं हैं और उनके बेटे सुल्तानपुर से सांसद भी रहे हैं. बेहतर होता कि वह सुल्तानपुर के लिए केंद्रीय मंत्री के रूप में किए अपने योगदान पर वोट मांगतीं या सुल्तानपुर में अपने सांसद बेटे के पिछले 5 वर्ष के योगदान पर वोट मांगतीं. डॉ सिंह ने कहा कि भाजपा सरकार की नीतियों के चलते इस समय देश का नौजवान सबसे ज्यादा परेशान है, देश का किसान सबसे ज्यादा आत्महत्या कर रहा है, देश का जवान सबसे ज्यादा शहीद हो रहा है।

प्रदेश में कानून की स्थित बेहत नाज़ुक

प्रदेश में कानून व्यवस्था की स्थिति बहुत खराब है और न तो केंद्र सरकार और ना ही प्रदेश सरकार इसे सुधारने के लिए कुछ कर रहे हैं.उन्होंने आगे कहा कि एक सांसद के रूप में सुल्तानपुर का समेकित विकास मेरी प्राथमिकता होगी. उन्होंने कहा कि सांसद बनने पर मैं सुल्तानपुर में गोमती नदी के घाटों के सुंदरीकरण और उसके प्रवाह को सुनिश्चित करने के लिए काम करूंगा।

सुल्तानपुर में इंडस्ट्रियल हब विकसित

करूंगासुल्तानपुर में कानून-व्यवस्था की कोई अप्रिय स्थिति नहीं पैदा होने दूंगा और सबको साथ लेकर सुल्तानपुर का विकास करूंगा. उन्होंने कहा कि यदि मैं सांसद चुना जाता हूं तो सुल्तानपुर में आर्मी और पैरामिलिट्री फोर्स की एकेडमी और स्पोर्ट्स ट्रेनिंग के लिए सेंटर भी विकसित करूंगा जिससे यहां के बच्चे आर्मी और पैरामिलिट्री फोर्स में जाने की अच्छे से तैयारी कर सकें और खेलकूद की अपनी प्रतिभा का विकास करके राष्ट्रीय स्तर पर अपना योगदान दे सकें. डॉ संजय सिंह के कार्यक्रमों में अनिल सिंह, अनीस, सरजूदीन बौद्ध, रईस, विनय विक्रम सिंह, रामराज चौरसिया और अमर बहादुर सिंह मुख्य रूप से उपस्थित थे. इसके पूर्व डॉ संजय सिंह ने लंभुआ बार एसोसिएशन में भी जनसंपर्क किया और बार एसोसिएशन के अधिवक्ताओं से इस लोकसभा चुनाव में कांग्रेस के लिये समर्थन की अपील की।

अधिवक्ताओं ने दिया आश्वाशन

अधिवक्ताओं ने भी एक स्वर से इस लोकसभा चुनाव में डॉ सिंह को सहयोग और समर्थन का आश्वासन दिया. उधर कांग्रेस प्रत्याशी डॉ संजय सिंह के पक्ष में विकासखंड बल्दीराय के ग्राम चककारी भीट, ग्राम अलियाबाद, ग्राम सैदुल्लापुर में नुक्कड़ सभाओं को संबोधित करते हुए उत्तर प्रदेश सरकार की पूर्व मंत्री डॉ अमीता सिंह ने कहा कि यह चुनाव नफरत रोकने व शांति युक्त और भयमुक्त समाज स्थापित करने के लिए है और जनता को आने वाले चुनाव में बेहद बुद्धिमानी से अपने मत का उपयोग करना होगा.

डॉ अमीता सिंह के कार्यक्रमों में बबलू सिंह सैनी सुकई जिला पंचायत सदस्य, कृष्णा मौर्य, रामचंद्र गुप्ता, लल्लू मिश्रा, माया प्रसाद मौर्य, जुनैद अहमद मुख्य रूप से उपस्थित थे. इसके पूर्व डॉ अमीता सिंह ने ग्राम दरियापुर, ग्राम सफलेपुर और ग्राम असरफ पुर वल्लीपुर में जनसंपर्क किया और कांग्रेस प्रत्याशी के पक्ष में वोट मांगे।

सुल्तानपुर-असली विकास सिर्फ करेगी कांग्रेस:-संजय सिंह

सुल्तानपुर से कांग्रेस के लोकसभा प्रत्याशी और राज्य सभा सदस्य डॉक्टर संजय सिंह ने जनता से सच्चाई, ईमानदारी और असली विकास के लिए कांग्रेस सरकार को चुनने का आह्वान किया।

मोतिगरपुर क्षेत्र के दर्जनों गांवों में संजय सिंह ने वोट डालने की अपील

मोतिगरपुर के ग्राम गौरा, ग्राम बनकेगांव डींगुरपुर, ग्राम ढेमा निषाद बस्ती ग्राम गंगेव और ग्राम बिरईपुर में नुक्कड़ सभा को संबोधित करते हुए डॉक्टर सिंह ने कहा कि क्षेत्र के मतदाता बिना किसी दबाव में आए और बिना किसी डर के अपने मताधिकार का प्रयोग करें और कांग्रेस की सरकार बनाएं।

सिर्फ कांग्रेस सरकार गरीब के लिए विकल्प

कांग्रेस ने हमेशा देश के विकास में अपना योगदान दिया है, गरीब और किसानों की समस्याओं को सुना और समझा है और उनके जीवन को बेहतर बनाने के लिए हमेशा काम किया है. डॉ सिंह ने कहा कि सूचना का अधिकार, शिक्षा का अधिकार और भोजन का अधिकार जैसी सोच सिर्फ कांग्रेस की हो सकती है. डॉक्टर सिंह ने कहा कि आपको विकास चाहिए, न्याय चाहिए तो वह सिर्फ कांग्रेसी की केंद्र सरकार दे सकती है. उन्होंने कहा कि सुल्तानपुर की जनता ने मुझे 2009 में अपना प्रतिनिधित्व करने का मौका दिया था और हम सुल्तानपुर में बने कई सारे फ्लाईओवर, सुल्तानपुर में गोमती नदी पर बने कई सारे पुल और सुल्तानपुर में ट्रामा सेंटर लेकर आए।

पिछली बार सेवा करने से रह गया वंचित

2014 में हमें सुल्तानपुर की जनता की सेवा करने का मौका नहीं मिल सका और जिसके चलते 2014 से 2019 के बीच के समय में सुल्तानपुर का विकास ठहर सा गया. उन्होंने कहा कि 2014 में आपने अपना जो सांसद चुनाव था, वह 2019 में सुल्तानपुर छोड़कर दूसरी जगह चुनाव लड़ने चले गए और वह केवल इसलिए क्योंकि उनके पास 2014 से 2019 तक की अवधि में विकास के नाम पर कुछ नहीं था. उन्होंने कहा की भय मुक्त सुल्तानपुर के लिए सिर्फ कांग्रेस की जरूरत है. डॉ सिंह ने कहा कि मेनका जी एक टूरिस्ट के रूप में सुल्तानपुर आई हैं. वह कहती हैं कि सुल्तानपुर उनके पति की कर्मभूमि रही है जबकि वास्तविकता यह है कि सुल्तानपुर उनके पति की कर्मभूमि कभी भी नहीं रही है. उनको सुल्तानपुर की जनता को यह जवाब भी देना चाहिए कि ऐसी कौन सी मजबूरी थी, जिसके चलते 35 सालों के बाद उनको सुल्तानपुर की याद आई, सुल्तानपुर की जनता की याद आई. डॉ सिंह ने कहा कि यदि सुल्तानपुर की जनता कांग्रेस प्रत्याशी के रूप में मुझे जिताती है तो मैं सुल्तानपुर में इंडस्ट्रियल हब विकसित कर दूंगा जिससे यहां के स्थानीय लोगों को रोजगार मिल सके और बेरोजगारी की समस्या दूर हो सके।

बिना डरे करे मतदान दबाव में नही कर मतदान

सुल्तानपुर का यह चुनाव देश का चुनाव है, देश के प्रधानमंत्री का चुनाव है इसलिए बिना किसी डर के, बिना किसी दबाव के और बेहद होशियारी से अपने मत का प्रयोग करें और कांग्रेस की सरकार बनाएं. उन्होंने कहा यदि कांग्रेस की सरकार बनती है तो कांग्रेस पार्टी हर गरीब के खाते में ₹72000 सालाना डालेगी, 2₹ खाली पड़ी सभी सरकारी नौकरियां अगले साल तक भर दी जायेंगीं, बच्चों को 12वीं तक की शिक्षा मुफ्त मिलेगी और कांग्रेस सरकार ऐसी व्यवस्था करेगी कि किसी भी कर्जदार किसान को जेल न जाना पड़े. उन्होंने कहा कि राहुल गांधी का यह वादा है कि सरकार आने पर किसानों के लिए अलग से बजट बनाया जाएगा, जिससे उनकी समस्याओं का बेहतर तरीके से समाधान किया जा सके उनके लिए अलग से बजट आवंटित किया जा सके और उन्हें उन्नत खेती के लिए प्रशिक्षण भी दिलाया जा सके।

जयसिंहपुर में वकीलों से मांगा जनसहयोग

इसके पूर्व डॉ सिंह ने बार एसोसिएशन जयसिंहपुर में भी जनसंपर्क किया जहां उन्होंने अधिवक्ताओं से अपने लिए सहयोग और समर्थन मांगा और अपनी जीत सुनिश्चित करवाने का अनुरोध किया. बार एसोसिएशन के कार्यक्रम में श्री श्याम लाल गुप्ता अध्यक्ष, रविशंकर मिश्रा उपाध्यक्ष, प्रतीक शाही एडवोकेट सहित काफी सारे अधिवक्ता उपस्थित थे. डॉ सिंह के कार्यक्रमों में श्री लक्ष्मी कांत मिश्रा, राम प्रसाद तिवारी, ओम प्रकाश सिंह, हर्ष नारायण मिश्रा, राजेश वर्मा, मोहम्मद मसरूल सहित बड़ी संख्या में लोग उपस्थित थे।

सेमरी में किया पद यात्रा

डॉ सिंह ने जयसिंहपुर में सेमरी बाजार बाईपास से अंदर बाजार तक पदयात्रा भी की और लोगों से जन समर्थन मांगा. उधर कांग्रेस प्रत्याशी डॉ संजय सिंह के समर्थन में उत्तर प्रदेश सरकार की पूर्व मंत्री डॉ अमीता सिंह ने करौंदी कला विकासखंड के ग्राम नरोत्तमपुर, ग्राम पाकड़ पुर, ग्राम लालेगंज बाजार, ग्राम तिरहरी, ग्राम शोधनपुर और ग्राम सहाबुद्दीनपुर में नुक्कड़ सभाएं की.

अपनी जनसभाओं में डॉ अमीता सिंह ने जनमानस का से अनुरोध किया कि वह डॉ संजय सिंह को उनकी विकासवादी सोच को देखते हुए इस बार फिर चुनकर संसद भेजें और सुल्तानपुर को एक असली स्मार्ट सिटी बनाने में अपना योगदान दें। डॉक्टर अमीता सिंह के कार्यक्रमों में अच्छे लाल यादव, पूर्व प्रधान, विद्या मिश्र पूर्व प्रधान, रामचंद्र मिश्र, ब्लॉक अध्यक्ष, रवींद्र पांडे, प्रधान देवराजपुर , ध्रुवसेन सिंह प्रधान प्रतिनिधि सहाबुद्दीनपुर व जगदीश सिंह मुख्य रूप से उपस्थित रहे।

सुलतानपुर-कांग्रेस प्रत्यासी के ताबड़तोड़ रैली से विपक्ष में गर्माहट शुरू……

सुल्तानपुर में लोकसभा चुनाव के नामांकन की तिथि समाप्त होते ही चुनाव अभियान के रंग बदलते जा रहे हैं. सुल्तानपुर से लोक सभा के कांग्रेस प्रत्याशी और राज्यसभा सांसद डॉ संजय सिंह अपने चुनावी अभियान में नुक्कड़ सभाओं के अलावा जनसंपर्क अभियान एवं पदयात्राओं को अधिक प्राथमिकता दे रहे हैं।

डॉ सिंह ने मंगलवार शाम को धनपतगंज में पद यात्रा कर क्षेत्र के मतदाताओं को सुलतानपुर से भय और अपराध खत्म करने का विश्वास दिलाया और लोगों को निष्पक्षता और निर्भीकता के साथ अपने मत का प्रयोग करने का आवाहन किया। पूरे मधुकरा से धनपतगंज की लगभग 2 कि0मी0 की पदयात्रा में डॉ0 सिंह के साथ सैकड़ों महिलाएं, बुजुर्ग और युवा शामिल रहे, जिनका जोश देखते ही बनता था। पदयात्रा से पूर्व डॉ0 सिंह ने विकासखंड बल्दीराय और धनपतगंज क्षेत्रों में नुक्कड़ सभाओं के अलावा जनसंपर्क के माध्यम से अपने लिए जनसमर्थन मांगा. डॉ सिंह ने पारा बाजार, न्याय पंचायत पारा के ग्राम आलियाबाद, न्याय पंचायत इसौली की ग्राम चकरारी भीट, न्याय पंचायत हेमनापुर के ग्राम सैदुल्लापुर, ग्राम पिपरी साईनाथ, ग्राम हड़ौरा और ग्राम रामनगर में जनसंपर्क किया. इसके पहले डॉ सिंह ने न्यायपंचायत पारा के ग्राम गौरा, ग्राम भखरी और ग्राम बिरधौना में नुक्कड़ सभाओं को संबोधित किया. नुक्कड़ सभाओं में डॉक्टर सिंह ने सुल्तानपुर के मतदाताओं का आह्वान किया कि वह न्याय के लिए वोट दें।

सम्मान के लिए वोट दें और देश में एक साफ-सुथरा और ईमानदार प्रधानमंत्री चुनने के लिए वोट दें. उन्होंने कहा कि यह देश का चुनाव है, देश के प्रधानमंत्री का चुनाव है और देश में एक मजबूत सरकार के लिए चुनाव है. डॉ सिंह ने कहा कि यदि कांग्रेस की सरकार आती है तो हर गरीब के खाते में सीधे ₹72000 सालाना आएंगे, हर बच्चे को 12वीं तक की मुफ्त शिक्षा मिलेगी, सभी सरकारी पद 2020 तक भर दिए जाएंगे और सरकारी नौकरियों में महिलाओं को समुचित प्रतिनिधित्व देने के लिए आरक्षण दिया जाएगा. डॉ सिंह ने कहा कि सुल्तानपुर की जनता ने मुझे 2009 में अपना प्रतिनिधित्व चुन कर मुझमें जो विश्वास जताया था, मैंने उस कसौटी पर खरा उतरने की पूरी कोशिश की. उन्होंने कहा कि सुल्तानपुर में बने कई सारे फ्लाईओवर, गोमती नदी पर बने अनेकों पुल और सुलतानपुर में ट्रामा सेंटर की बिल्डिंग एक सांसद के रूप में मेरी विकासवादी सोच की जीती जागती मिसाल है. मेरे चाहने के बावजूद यह ट्रामा सेंटर अभी तक शुरू नहीं हो सका क्योंकि 2014 में जो सांसद के रूप में चुने गए उन्होंने इस ट्रामा सेंटर को प्राथमिकता के आधार पर शुरू करने में कोई रुचि नहीं दिखाई और सुल्तानपुर को लावारिस छोड़ कर दूसरे संसदीय क्षेत्र से चुनाव लड़ने के लिए चले गए।

उन्होंने कहा कि यदि जनता इस बार मुझे मौका देती है तो मैं वादा करता हूं कि सुल्तानपुर में उद्योग धंधे स्थापित करूंगा, गोमती नदी के घाटों का सौंदर्यीकरण करूंगा, गोमती नदी के प्रवाह को सुनिश्चित करने के लिए काम करूंगा, सुल्तानपुर में चीनी मिल की क्षमता बढ़ाने के लिए काम करूंगा, और सुल्तानपुर के किसानों को उन्नत तरीके से खेती करने का प्रशिक्षण मिले, यह सुनिश्चित करूंगा. डॉ संजय सिंह के कार्यक्रमों में मुख्य रूप से बबलू सिंह सैनी, जितेंद्र सिंह, दयाशंकर दुबे, चमन लाल, अकबर रजा, मोहम्मद इमरान खान, कन्हैया लाल यादव, जगदीश यादव, मोनू खान, जुनैद अहमद, रतीब खान मुख्य रूप से उपस्थित थे. उधर डॉ संजय सिंह के समर्थन में उत्तर प्रदेश सरकार के पूर्व मंत्री डॉ अमीता सिंह ने भी थाना गोसाईगंज के ग्राम दर्जीपुर, न्याय पंचायत फुलौना के ग्राम फुलौना, न्याय पंचायत सैदखानपुर के ग्राम शैलखा, न्याय पंचायत कोहड़ा के ग्राम भरथीपुर, न्याय पंचायत वल्लीपुर के ग्राम सरवन में नुक्कड़ सभाएं कीं. उन्होंने कहा कि आप हमें जीत कर लाइए और सुल्तानपुर में शांति व्यवस्था, सुल्तानपुर के नागरिकों की सुरक्षा और सुल्तानपुर के लोगों को न्याय सुनिश्चित करने की जिम्मेदारी हम निभाएंगे. डॉ अमिता सिंह के कार्यक्रमों में कमलनयन वर्मा, इंद्र कुमार मिश्रा, फैजान खान, सुरेंद्र शुक्ल, रवींद्र मिश्र, एनएसयूआई यूपी ईस्ट के प्रभारी शौर्यवीर सिंह, ज़मा खान, धर्मराज मिश्र समेत हज़ारो लोग मौजूद रहे।

ब्यूरो रिपोर्ट-7 स्टार न्यूज़

सुलतानपुर-घर सुलतानपुर फाउंडेशन का भीषण गर्मी में सराहनीय कदम…..

घर सुलतानपुर फाउंडेशन ने शहर में पांच जगह लगाया प्यायू

विगत वर्षों 11 की भाँति घर सुल्तानपुर फाउंडेशन ने दिनाँक 23 अप्रैल 2019 को 05 प्याऊ की व्यवस्था कर मोहल्ले के वरिष्ठ जनों से उद्घाटन करवाकर शुरू करवाया जो कि क्रमशः
1. प्रह्लाद गुप्ता ठठेरी बाजार
2. हरीश इंटरप्राइजेज दरियापुर
3. जायसवाल मेडिकल स्टोर राहुल टाकीजडॉ गुप्ता के सामने
4.फैशन जोन सुपर मार्केट गेट
5.गया प्रसाद आगरा वाले, आगरा चौराहा
कार्यक्रम में घर सुल्तानपुर फाउंडेशन के सदस्यों के साथ साथ मोहल्ले के लोग भी उपस्थित रहे, गणमान्य लोगों ने घर सुल्तानपुर फाउंडेशन के प्रयाश को सराहनीय कदम बताया और संगठन के द्वारा होने वाले आयोजन में उपस्थिति और सहयोग देने की बात कही डॉ जेपी सिंह , सुंदर लाल टंडन , जसवंत सिंह रज्जन , शिव प्रसाद वर्मा ने कहा गर्मी में आमजनों को राहगीरों को साफ पानी उपलब्ध कराने की ये मुहिम बहुत ही पुण्य है।

सुलतानपुर-राहुल ग़ांधी ने मोदी पर कसा तंज “चौकीदार चोर है”

कांग्रेस से सुल्तानपुर के लोकसभा प्रत्याशी और राज्यसभा सांसद डॉक्टर संजय सिंह ने सुल्तानपुर के मतदाताओं से आह्वान किया है कि वह देश में चल रही आजादी की इस दूसरी लड़ाई में अपना योगदान दें और देश के हित में कांग्रेस पार्टी के हाथों को मजबूत करे।

नुक्कड़ सभाओ में की जीत की अपील

सुल्तानपुर में विकास खंड कुडवार के ग्राम रवनिया पश्चिम, ग्राम हरखीपुर, ग्राम पिपरी में आयोजित नुक्कड़ सभाओं में उन्होंने कहा कि पहली लड़ाई में हमने गोरों से लड़कर उन्हें देश से बाहर भगाया था और इस बार हमारी लड़ाई चोरों से है और हम आप की मदद से यह लड़ाई भी जीत कर दिखा देंगे. उन्होंने कहा कि इस लोकसभा चुनाव में सुल्तानपुर में मेरे अलावा दो मुख्य प्रत्याशी और हैं और इनमें से अपना प्रतिनिधि चुनते समय आपको तीनों प्रत्याशियों के पिछले ट्रेक रिकॉर्ड को देखना चाहिए।

टिकट खरीददार पर बोले संजय सिंह

उन्होंने कहा कि करोड़ों का टिकट खरीद कर लाने वाले लोग सेवा भावना से यह चुनाव तो नहीं ही लड़ रहे हैं. उन्होंने यह भी कहा कि भाजपा की प्रत्याशी बाहरी हैं. वह सुल्तानपुर एक टूरिस्ट के रूप में आई हैं और उन्हें न तो सुल्तानपुर की समस्याओं की जमीनी समझ है और न ही सुल्तानपुर के विकास के लिए उनकी कोई कार्ययोजना है. सुल्तानपुर की जनता ने 2014 के चुनाव में उनके पुत्र पर भरोसा जताया था और उनके पुत्र का पिछले 5 साल का रिपोर्ट कार्ड ऐसा रहा कि वह सुल्तानपुर की जनता का सामना करने की हिम्मत ही नहीं जुटा पाए और मजबूरी में उन्हें सुल्तानपुर छोड़कर दूसरी लोकसभा सीट चुननी पड़ी. उन्होंने कहा कि यह चुनाव सुल्तानपुर का चुनाव है, सुल्तानपुर की जनता का चुनाव है, सुल्तानपुर के विकास का चुनाव है और सुल्तानपुर की सुख, समृद्धि और सौहार्द का चुनाव है. आप देश का प्रधानमंत्री चुनने जा रहे हैं इसलिए उस पार्टी को वोट दें जो विकास के निश्चित एजेंडे पर काम करे. डॉ संजय सिंह ने कहा कि जो भी आपके पास वोट मांगने आए, उनसे आप जरूर पूछिए की उनके पास सुल्तानपुर के विकास का क्या रोड मैप है।

2009 के बाद अभी मुझे जनता पर भरोसा

डॉ सिंह ने कहा कि 2009 में सुल्तानपुर की जनता ने मुझमें भरोसा जताया था और 2009 से 2014 के दौरान मैंने सुल्तानपुर के विकास के लिए अपना सक्रिय योगदान भी दिया.सुल्तानपुर शहर में बने कई सारे फ्लाईओवर, गोमती नदी पर बने कई सारे पुल और सुल्तानपुर में बना ट्रामा सेंटर मेरी विकासवादी सोच का जीता जागता सबूत है. उन्होंने आगे कहा कि अगर जनता ने इस बार उन्हें अपने प्रतिनिधि के रूप में चुनकर संसद में भेजा तो वह यकीन दिलाते हैं कि वह सुल्तानपुर का पूरा नक्शा ही बदल देंगे. डॉ सिंह ने कहा कि देश में बेरोजगारी एक बहुत बड़ा मुद्दा है और अगर कांग्रेस सरकार आती है तो देशभर में पड़े 22 लाख सरकारी पद 1 साल के भीतर भर दिए जाएंगे. युवा व्यवसायियों को अपने व्यवसाय के लिए 3 साल तक किसी तरह की कोई परमिशन नहीं लेनी होगी. किसानों के लिए कांग्रेस पार्टी अलग से बजट पेश करेगी और कांग्रेस सरकार बनने पर किसी किसान को कर्ज़ न भरने के कारण जेल नहीं जाना पड़ेगा. सुल्तानपुर को हम इंडस्ट्रियल हब बनाएंगे और सुल्तानपुर को असली स्मार्ट सिटी बना कर दिखा देंगे. डॉ संजय सिंह के कार्यक्रमों में रणविजय सिंह डीडीसी, जगमोहन यादव साईं पूर्व प्रधान, दयाराम यादव पूर्व प्रधान, हजरत दीन पूर्व प्रधान मवैया, नंदलाल मौर्या पूर्व प्रधान विनायकपुर, वारिस अली प्रधान, बाबू लाल यादव पूर्व उपप्रमुख कुड़वार व अश्वविजय सिंह पूर्व प्रमुख मुख्य रूप से उपस्थित थे।

सुलतानपुर-मेनका अगर ABCD तो मैं A TO Z का उम्मीदवार:-संजय सिंह

सुलतानपुर में चुनावी जनसभा के दौरान में वोटरों को रिझाने के लिए प्रत्यासी हर हड़कंडे अपनाने में कोई कसर नहीं छोड़ रहे है।कोई वोटरों की कैटगरी के हिसाब से बिकास करने को बोल रहा है तो कोई झूठ का सहारा लेकर अपना उल्लू सीधा कऱ रहे है।

ABCD के कैटगरी के हिसाब से होगा बिकास

भाजपा की पूर्व केंद्रीय मंत्री ने एक नुक्क्ड़ सभा के दौरान लोगो से क्षेत्र में मिलने वाली वोट में से कैटगरी बनाकर उनका बिकास करने का मूड बना रही है तो वही राज्य सभा सांसद व कांग्रेस प्रत्यासी संजय सिंह उनके ब्यान पर कहते है की भाजपा तो सिर्फ समाज में बटवारा करती है और समाज पर राज करती है मुझे लगता है की मेनका जी ABCD कैटगरी का उम्मीदवार बनना चाहती है तो मई A TO Z का उम्मीदवार बनना चाहता हु।

सुलतानपुर-शेरे यूपी के चुनाव लड़ने से विपक्षियों में कुनकुनाहट शुरू

14 अप्रैल को शिव सेना से लोक सभा चुनाव लडने का एलान कर सकते है पवन पाण्डेय

समर्थको की मांग पर पूर्व विधायक ने किया मंथन

14 अप्रैल को लोहरामऊ धाम पर कराएंगे ताकत का एहसास

कई दलो के नेताओं ने डाले डोरे पर नही बनी बात
समर्थको के दबाव के सामने पूर्व विधायक पवन पाण्डेय झुक सकते है इसका ताना बाना बुना जा चुका है 14 अप्रैल को लोहरामऊ धाम पर बकायदे ऐलान किया जायेगा सुल्तानपुर सांसदीय सीट पर किसी भी प्रत्यासी को समर्थन न दे कर चुनाव लडने की घोषणा की जायेगी किस पार्टी से चुनाव लडेगे इसका भी खुलासा माई के घाम पर होगा चुनाव प्रचार मे नामी गिरामी सिने तारिका एवं सिनेस्टार के सामिल होने के भी चर्चा चल रही है।

विपक्षियों की निगाहें सिर्फ पवन पर

बहरहाल पूर्व विधायक पवन पाण्डेय के इस राजनैतिक रणनीति पर विपक्षी दलो की भी निगाहे टिकी है माथे पर पसीना चटक रहा है जो सजातीय नेता अपने को अन्य दल मे सेट कर लिए है ,
पूर्व विधायक के मैदान मे आने से एसे नेताओं की गणित गडबडा़ सकती है
पूर्व विधायक पवन पाण्डेय निर्दल व बसपा के टिकट से दो बार लोक सभा का चुनाव यहां से लड चुके है राजनैतिक साख को जिले मे बरकार रखने के लिए दांव पेच मे जुटे है 30 मार्च को अपनी ताकत का एहसास कराने के लिये बेजुथुआ धाम पर होली मिलन कार्यक्रम रखा सजातीय समेत शुभचिंतकों का जमघट लगा।

रणनीति तय की गयी कि कद्दावर सजातीय नेता एवं कार्यकर्ता अपने बूथों का आंकलन कर 7 अप्रैल तक अपनी रिपोर्ट कार्ड सौपे की चुनाव लडा जाय या फिर किसी प्रत्यासी या दल का समर्थन किया जाय इस तिथि पूर्व विधायक ने पुनः बढा दिया 14 अप्रैल को लोहरामऊ धाम पर नव वर्ष के अवसर पर स्नेह मिलन का आयोजन किया गया है जिसमे पूर्व विधायक पवन पाण्डेय अपनी अगली रणनीति का खुलासा करेगे लेकिन अधिकांश समर्थको का दबाव है कि किसी भी दल या प्रत्यासी का समर्थन कदापि न किया जाय जब कि निचले स्तर से ले कर हाई कमान तक के कई दलो नेताओं ने पूर्व विधायक पर दबाव बनाया लेकिन बात नही बनी समर्थको के दबाव पर पूर्व विधायक ने लोकसभा चुनाव लडने का मन बनाया।

क्या कहते है मीडिया प्रभारी

पवन पाण्डेय के मीडिया प्रभारी रामानन्द मिश्रा ने बताया की पूर्व विधायक पवन पाण्डेय समर्थको की मांग पर लोकसभा चुनाव लडने जा रहै है शिव सेना से चुनाव लडेगे नामी गिरामी फिल्म अभिनेत्री एवं सिने स्टार प्रचार मे आयेगे इसका पूरा ताना बाना बुन लिया गया है पूर्व विधायक14 अप्रैल को लोहरामऊ धाम पर घोषणा करेगे।

सुल्तानपुर-NSUI ने जूते पालिश कर जताया विरोध

केंद्र सरकार की और रोजगार परक नीतियों के खिलाफ अनोखा प्रदर्शन

सुल्तानपुर :- प्रदेश एनएसयूआई कार्यालय के आवाहन पर बुधवार को एनएसयूआई के जिलाध्यक्ष मानस तिवारी के नेतृत्व में कलेक्ट्रेट गेट पर युवाओं ने बेरोजगारी का प्रदर्शन करते हुए राहगीरों के जूते पालिश कर अनोखा प्रदर्शन किया । इस अवसर पर जिलाध्यक्ष मानस तिवारी ने कहा मोदी सरकार ने दो करोड युवाओं के रोजगार का वादा हम छात्रों से किया था पांच साल बीत जाने के बाद भी लगभग 16 लाख नौकरियां ही दी जा सकी है ।

केंद्र और प्रदेश के विभागों में लाखों पद रिक्त पड़े हैं किंतु रोजगार के नाम पर उन्हें ठगा जा रहा है । उम्र सीमा बीत जाने के बाद वह नौकरी पाने की योग्यता से भी वंचित रह जाएंगे । देश के प्रधानमंत्री कभी नाली के गैस से चाय बनाने की बात करते हैं ,कभी पकोड़े को रोजगार बताते हैं किंतु नौकरियों के नाम पर उनका बड़ा कदम छात्रों के हित में नहीं बल्कि जुमला साबित हुआ है । आज छात्रों के साथ बूट पॉलिश को वह मजबूर हुए हैं इस अवसर पर दर्जनों छात्र नेता व कार्यकर्ता मौजूद रहे ।

सुल्तानपुर-आज हनुमान पूजा पर विशेष जानकारी

बगैर हनुमान जी के रामयाण कभी पूर्ण नहीं होती तथा रामायण में राम एवं रावण युद्ध में हनुमान जी ही केवल एकमात्र ऐसे योद्धा थे जिन्हे कोई भी, किसी भी प्रकार से क्षति नहीं पहुंचा पाया था.

आज हम आपको हनुमान जी के बारे में कुछ नई बाते बताने जा रहे है जिन के बारे में शायद आपने न कभी पढ़ा होगा और न सूना. हनुमान जी के संबंध में 8 अनोखे रहस्य आपको अवश्य ही आश्चर्यचकित होने में मजबूर कर देंगे.

जब हनुमान जी लंका का दहन कर रहे थे तब उन्होंने अशोक वाटिका को इसलिए नहीं जलाया, क्योंकि वहां सीताजी को रखा गया था. दूसरी ओर उन्होंने विभीषण का भवन इसलिए नहीं जलाया, क्योंकि विभीषण के भवन के द्वार पर तुलसी का पौधा लगा था. भगवान विष्णु का पावन चिह्न शंख, चक्र और गदा भी बना हुआ था. सबसे सुखद तो यह कि उनके घर के ऊपर ‘राम’ नाम अंकित था. यह देखकर हनुमानजी ने उनके भवन को नहीं जलाया.

विभीषण के शरण याचना करने पर सुग्रीव ने श्रीराम से उसे शत्रु का भाई व दुष्ट बताकर उनके प्रति आशंका प्रकट की और उसे पकड़कर दंड देने का सुझाव दिया. हनुमान जी ने उन्हें दुष्ट की बजाय शिष्ट बताकर शरणागति देने की वकालत की. इस पर श्रीरामजी ने विभीषण को शरणागति न देने के सुग्रीव के प्रस्ताव को अनुचित बताया और हनुमानजी से कहा कि आपका विभीषण को शरण देना तो ठीक है किंतु उसे शिष्ट समझना ठीक नहीं है.

इस पर श्री हनुमानजी ने कहा कि तुम लोग विभीषण को ही देखकर अपना विचार प्रकट कर रहे हो मेरी ओर से भी तो देखो, मैं क्यों और क्या चाहता हूं….फिर कुछ देर हनुमान जी ने रुककर कहा- जो एक बार विनीत भाव से मेरी शरण की याचना करता है और कहता है- ‘मैं तेरा हूं, उसे मैं अभयदान प्रदान कर देता हूं.

यह मेरा व्रत है इसलिए विभीषण को अवश्य शरण दी जानी चाहिए.’इंद्रा‍दि देवताओं के बाद धरती पर सर्वप्रथम विभीषण ने ही हनुमान जी की शरण लेकर उनकी स्तुति की थी. विभीषण को भी हनुमानजी की तरह चिरंजीवी होने का वरदान मिला है. वे भी आज सशरीर जीवित हैं. विभीषण ने हनुमानजी की स्तुति में एक बहुत ही अद्भुत और अचूक स्तोत्र की रचना की है. विभीषण द्वारा रचित इस स्तोत्र को ‘हनुमानवानल स्तोत्र कहते हैं.

13 वीं शताब्दी में माधवाचार्य, 16 वीं शताब्दी में तुलसीदास, 17 वीं शताब्दी में राघवेंद्र स्वामी तथा 20 वीं शताब्दी में रामदास , ये सभी यह दावा करते है की इन्हे हनुमान जी के सक्षात दर्शन हुए.

हिन्दू धर्म गर्न्थो और पुराणों में यह बताया गया है की हनुमान जी इस पृथ्वी में कलयुग के अंत होने तक निवास करेंगे. हनुमान सहित परशुराम, अश्वत्थामा, विश्वामित्र, विभीषण और राजा बलि सभी सार्वजनिक रूप से इस धरती पर उस समय प्रकट होंगे जब भगवान विष्णु यहाँ धरती पर कल्कि के अवतार में जन्म लेंगे.

कलियुग में हनुमान जी, भैरव, काली और माता अम्बा को जागृत देव माना गया है, इनका ध्यान करने मात्र से ही ये तुरंत सक्रिय हो जाते है. इसलिए जितने जल्दी ये प्रसन्न होते है उतने जल्दी ही यदि इनका किसी तरह से अपमान हो जाए तो, ये क्रोधित हो जाते है.

क्यों प्रमुख देव हैं हनुमान :-

हनुमानजी 4 कारणों से सभी देवताओं में श्रेष्ठ हैं. पहला कारण यह कि सभी देवताओं के पास अपनी अपनी शक्तियां हैं. जैसे विष्णु के पास लक्ष्मी, महेश के पास पार्वती और ब्रह्मा के पास सरस्वती, हनुमानजी के पास खुद की शक्ति है. वे खुद की शक्ति से संचालित होते हैं. हनुमान जी से जुडी इस सच्चाई को जान आश्चर्य में पड जाएंगे आप, बजरंग बलि से जुडी अनोखी कथा !

दूसरा कारण यह कि वे इतने शक्तिशाली होने के बावजूद ईश्वर के प्रति पूर्ण समर्पित हैं, तीसरा यह कि वे अपने भक्तों की सहायता तुरंत ही करते हैं और चौथा यह कि वे आज भी सशरीर हैं. इस ब्रह्मांड में ईश्वर के बाद यदि कोई एक शक्ति है तो वह है हनुमानजी. महावीर विक्रम बजरंगबली के समक्ष किसी भी प्रकार की मायावी शक्ति ठहर नहीं सकती.

इस जंगल में आज भी प्रकट होते हैं हनुमान जी

हनुमान जी के गुरु :-
हनुमान जी के गुरु थे मातंग ऋषि. वैसे तो हनुमान जी ने कई गुरुओ से शिक्षा ग्रहण करी थी जैसे सूर्य, नारद मुनि परन्तु इनके आल्वा ऋषि मातंग से भी हनुमान ने शिक्षा ग्रहण की थी. ऋषि मातंग सबरी के भी गुरु थे और ऐसा माना जाता है की हनुमान जी का जन्म भी ऋषि मातंग के आश्रम में हुआ था. मातंग ऋषि के आश्रम में माता दुर्गा की कृपा से जिस कन्या का जन्म हुआ था उसका नाम देवी मातंगी है. देवी मातंगी सभी 10 महाविद्याओ में से एक है.

हनुमान जी और श्री राम का युद्ध :-

हनुमान जी और श्री राम का एक बार युद्ध भी हुआ था. गुरु विश्वामित्र ने श्री राम को राजा ययाति का वध करने का आदेश दिया. राजा ययाति अपने प्राण की रक्षा के लिए हनुमान जी की माता अंजना के शरण में गया तथा उनके द्वारा हनुमान जी से यह प्रण करवाया की वे राजा ययाति की श्री राम से रक्षा करेग

माता के आदेश पर हनुमान जी प्रभु राम से राजा ययाति की रक्षा करने गए. हनुमान जी ने किसी अस्त्र-शस्त्र से लड़ने के बजाए प्रभु राम के नाम का जप करना शुरू कर दिया, राम ने हनुमान जी पर जितने बाण चलाए वे सभी व्यर्थ गए. अंत में विश्वामित्र सहित सभी हनुमान जी की राम के प्रति श्रद्धा भक्ति देख कर आश्चर्यचकित रह गए और विश्वामित्र ने राम को युद्ध रोकने का आदेश देकर राजा ययाति को जीवन दान दिया.

कुंती पुत्र भीम हनुमान जी के भाई थे :-
श्री राम का जन्म 5111 ईसवी पूर्व हुआ था, हनुमान जी का जन्म श्री राम के जन्म से कुछ वर्ष पूर्व हुआ था. इसी तरह श्री कृष्ण का जन्म 3112 इससे पूर्व हुआ था. इस मान से भीम का जन्म श्री कृष्ण के जन्म से कुछ वर्ष पूर्व हुआ था . हनुमान जी और भीम के जन्म में लगभग 2002 वर्षो का अंतर आता है.

हनुमान जी के इस मंदिर में मांगी हर मुराद होती है पूरी- गारंटी से

तब आप सोच रहे होंगे की वे दोनों आखिर भाई कैसे हुए. दरअसल हनुमान जी पवन पुत्र है, और कुंती को भीम भी पवन देव के आशीर्वाद से प्राप्त हुए थे. इस मान से दोनों के पिता एक ही है. इस तरह भीम को भी पवन पुत्र कहा जाता है व दोनों ही अत्यधिक शक्तिशाली थे. कहा जाता है की भीम के पास हजार हाथियों का बल था. महाभारत काल में उनके समान शक्तिशाली योद्धा उनके बाद सिर्फ उनका पुत्र था.

माता जगदम्बा के सेवक हनुमान जी :-

हनुमान जी भगवान श्री राम के समान ही माँ जगदम्बा के भी बहुत बड़े भक्त थे. हनुमान जी सदैव माँ जगदम्बा के आगे-आगे उनकी सेवा के लिए चलते है तथा माँ जगदम्बा के पीछे भैरव उनकी सेवा में लिए उनके पीछे रहते है. हर मंदिर जहा माता जगदम्बा की प्रतिमा विध्यमान होगी वहां बजरंगबली की प्रतिमा भी अवश्य होती है.कहि-कहि पर हनुमान जी की गाथा माता वैष्णो देवी से भी जोड़ी जाती है .

हनुमान ने इस तरह दिया भी दिया श्री राम का साथ :-
रावण ने माँ जगदम्बा को प्रसन्न करने व राम के साथ युद्ध में विजय प्राप्ति के लिए यज्ञ करवाया, जिसके लिए उसने उस यज्ञ में बहुत ही उच्च कोटि के ब्राह्मणो को बुलवाया. जब यह यज्ञ चल रहा था उस समय हनुमान जी अपना रूप बदल कर लंका उस यज्ञ में पहुंचे और उस यज्ञ को सम्पन कर रहे ब्राह्मणो की खूब सेवा करी.

जब हनुमान से प्रसन्न होकर ब्राह्मणो ने उनसे वरदान मांगने को कहा था तो उन्होंने मन्त्र में एक शब्द बदलवा दिया. ब्राह्मणो दवारा पढ़े गए गलत मंत्रो के कारण देवी रुष्ट हुई और राम-रावण युद्ध में रावण को पराजय का सामना करना पड़ा।

पंडित गंगा राम मिश्र के वाणी के अनुस्वार

रुद्र नगर सुल्तानपुर स्थित संकट मोचन मंदिर